Over dose of vitamin-D increased the number of such patients

इंटरनेट से मिल रहे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के नुस्खों को बिना अपने डॉक्टर की सलाह के अमल में ना लाएं। अन्यथा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने की जगह आप किसी दूसरी बीमारी की चपेट में आ सकते हैं…

vitamin-d

अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए ज्यादातर लोग हर संभव प्रयास कर रहे हैं। इनके बीच ऐसे लोगों की संख्या बहुत अधिक है, जो बिना किसी डॉक्टर की सलाह के और अपनी सेहत के बारे में आधी-अधूरी जानकारी के साथ भारी मात्रा में विटमिन्स का सेवन कर रहे हैं। जो इनकी सेहत को फायदे की जगह नुकसान पहुंचा रहा है।

अति हर चीज की वर्जित होती है। अगर आप विटमिन्स का सेवन भी जरूरत से ज्यादा करेंगे तो ये आपके शरीर को नुकसान पहुंचाएंगी। आजकल डॉक्टर्स के पास ऐसे मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है, जिन्हें उल्टी, मितली, जी घबराना, बेचैनी जैसी समस्याएं हो रही हैं। डॉक्टर गीतांजलि का कहना है कि चाहे विटमिन्स के सेवन की बात हो या घरेलू नुस्खों के तरत काढ़ा पीने की, यदि एक सीमा से ज्यादा किसी भी चीज का सेवन किया जाएगा तो वह आपके शरीर को हानि ही पहुंचाएगी।

आप जरूर बरतें ये सावधानियां
-हम भी आपको अक्सर इस बारे में जानकारी देते रहते हैं कि विटमिन्स आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए जरूरी हैं। खासतौर पर विटमिन-सी और विटमिन-डी। लेकिन साथ ही हम आपको यह सलाह भी देते हैं कि इनके सेवन से पहले एक बार अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

dehydration

कमजोरी और थकान लगना
-किसी भी दवाई को लेने से पहले डॉक्टर की सलाह इसलिए जरूरी होती है क्योंकि हर व्यक्ति के शरीर को एक ही पोषक तत्व की जरूरत अलग-अलग मात्रा में होती है। आपके शरीर को किसी भी विटमिन की कितनी जरूरत है या नहीं है, यह बात आपको सिर्फ आपके डॉक्टर ही बता सकते हैं।

विटमिन-डी लेने का तरीका
-आपके शरीर को विटमिन-डी की कितनी डोज चाहिए और आपके यह डोज कितने समय तक लेनी यह बात अपने डॉक्टर से जरूर पूछें।


-क्योंकि सामान्य तौर पर विटमिन-डी के कैपसूल्स सप्ताह में एक बार लिए जाते हैं और इनका कोर्स लगातार दो महीने तक चलता है। हड्डियों में बहुत अधिक कमजोरी के शिकार लोगों के लिए यह डोज अलग-अलग हो सकती है।

-साथ ही एक समय के बाद आपके डॉक्टर एक बार फिर आपको यह विटमिन लेना शुरू करने की सलाह दे सकते हैं। आमतौर पर यह 6 महीने का अंतराल होता है।

diarrhea-3

हो सकती हैं ये समस्याएं
-विटमिन्स की ओवर डोज लेने से उल्टियां होना, बार-बार मितली आना या घबराहट होने की समस्या प्रारंभिक लक्षण हैं। 

-यदि ये समस्या लगातार लंबे समय तक बनी रहती है तो नींद ना आना, थकान रहना और अपच की समस्या भी हो सकती हैं। जो आगे चलकर किसी और गंभीर बीमारी का कारण बन सकती हैं।

-इसलिए अगर आपको इस तरह की समस्याएं हो रही हैं तो तुरंत विटमिन्स का सेवन करना बंद करें और अपने डॉक्टर से सलाह लें। साथ ही यह भी पता करें कि आपके लिए अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का सबसे प्रभावी तरीका क्या रहेगा।

SOurce

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *